सोमवार, 31 मार्च 2014

कमजोर आदमी की खांसी

                                              राम बचाये झाँसी, कांशी   
                                              आ पहुंचे हैं सत्यानाशी.
                                              दबा टेटुआँ ही वो देगें 
                                              अगर आप को उठेगी खाँसी 


   घर में किसी को खाँसी है तो रात को किसी चोर की हिम्मत नहीं है कि वो आप के घर के आस पास भी आये. आज आपकी बस्ती में चोरों के बड़े बड़े गिरोह घूम रहें हैं जो लम्बा हाथ मारने की फिराक में हैं. मित्रों चौकीदार के भरोसे मत रहना वो चोरो से मिल गया है .चोरो से कहेगा तुम उधर जाकर चोरी करो मैं इधर जागते रहो की आवाज लगता हूँ. अपने घर के उस बीमार और कमजोर आदमी की खांसी पर ध्यान दो,जो आपको सोने नहीं दे रहा है. उठो जागो उसे दवा पानी देते रहोगे तो आपका घर अपने आप सुरक्षित रहेगा.अभी अगर चौकीदार के भरोसे चादर तानकर सोते रहे तो आँख खुलने पर रोने के अलावा कुछ नहीं कर पाओगे.ढूंढने से भी न चोरी गया आपका माल मिलेगा और न कहीं चोर मिलेगा.

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें