मंगलवार, 10 जून 2014

गैस के दाम


खबरें आ रही हैं कि पहली जौलाई से गैस के दाम बढ़ जायेगें . खबर ये भी है कि रिलायंस गैस हमें तो आठ डॉलर पर मिलेगी जबकि बांग्लादेश को अढ़ाई डॉलर पर ही मिलती रहेगी .इस   खबर से बहुत सारे लोग नाराज हैं . मजे कि बात ये है कि संघी कम नाराज हैं लेकिन सेकुलर लोग बहुत खफा हैं .खैर संघी तो ये सोच कर चुप हैं कि अम्बानी ने चुनाव में इतनी मदद की है तो इतना तो हक़ उसका बनता ही है कि वो गैस के दाम दुगने कर दे. रही बांग्लादेश की बात तो रिलायंस का चाहे जो मकसद हो लेकिन इससे इतना अवश्य होगा की जो बांग्लादेशी भारत में ये सोचकर घुस आते हैं कि यहां दो जून की रोटी चैन से मिलेगी अब नहीं आएंगे क्यूँकि अब जब उन्हें पता चलेगा कि यहां न रोटी कमानी आसान है और न पकानी तो वो ये सोचकर अपने बांग्लादेश में ही रहेंगे कि इससे तो अपना देश ही अच्छा है .
सेकुलर लोगों को भी चाहिए कि वो गैस के मंहगे होने का विरोध भले ही करें लेकिन बंगलादेश को सस्ती गैस देने का विरोध न करें .आखिर वो हमारा छोटा भाई है ,गरीब भाई जिसकी मदद हमें करनी ही चाहिए .

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें