गुरुवार, 12 जून 2014

आशाराम बापू और अमृत प्रजापति


  
     आशाराम बापू के गुर्गों ने उसके विरुद्ध गवाही देने वाले एक मात्र गवाह अमृत प्रजापति को मार डाला है लेकिन कहीं कोई विरोध नहीं है .पहले मीडिया आशाराम के खिलाफ कितना चिल्लाता रहता था अब वो भी खामोश है , सब ओर पूर्ण शांति है . लगता वाकई अच्छे दिन आ गए हैं .सच बोलने वालों के लिए खराब दिन और झूठे और मक्कार लोगों के लिए अच्छे दिनों की ये सौगात कुछ भला नहीं कर करेगी.



0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें