शुक्रवार, 22 अगस्त 2014

'टिम्बकटू' साभार : - अश्विनी कुमार पंकज





(टिंबक्टू सहारा मरुभूमि की दक्षिणी सीमा पर तथा नाइजर नदी पर स्थित काबरा बंदरगाह से ९ मील उत्तर दिशा में ८०० फुट की ऊँचाई पर स्थित है।टिम्बक्टू (Timbuktu) माली गणतंत्र का ऐतिहासिक एवं व्यापारिक नगर है। यह एक विश्व धरोहर स्थल है.)

   आदिवासियों ने बसाया था वह किताबों का शहर टिम्बकटू

टिम्बकटू किताबों का शहर है. आप ही की तरह हम भी चक्करघिन्नी हो गए थे. पहली बार सुनकर. लेकिन जनाब एकदम दुरूस्त खबर है. अंगरेजों और फ्रांसीसी स्वयंभू आकाओं ने लंबे समय तक यह बात दुनिया से दबाए रखी. इस खबर को दबाए रखने में उन्हें कौन-सा ‘मोक्ष’ प्राप्त हो रहा था, ये पॉलटिक्स आप ज्ञानी लोग समझते ही हैं बखूबी. सो बिना उनकी पॉलटिक्स पर एक भी शब्द और खर्च किये आपको बता दें कि टिम्बकटू किताबों का शहर है. वह भी प्राचीन किताबों का. ज्ञान-विज्ञान, कला, भाषा-साहित्य, व्याकरण, चिकित्साशास्त्र, खगोलशास्त्र और अध्यात्म-धर्म जैसे विषय पर दुर्लभ पांडुलिपियों का भंडार है. हर घर में जिसे पीढ़ी दर पीढ़ी से लोगों ने संभाल रखा है.

      टिम्बकटू सहारा रेगिस्तान का प्रवेश द्वार है जो निग्रे नदी से 20 किमी की दूरी पर बसा है. ‘टिन’ का अर्थ होता है ‘स्थान’ और ‘बुकटू’ उस क्षेत्र में रहनेवाली एक बेहद भली महिला का नाम था. जो सदियों पहले वहां रहती थी. लेकिन अंगरेजों को देखिए. टिम्बकटू का अर्थ उनकी डिक्शनरी में है - बहुत दूर का देश या स्थान. उपलब्ध इतिहास के अनुसार टिम्बकटू 5वीं सदी में स्थापित हुआ था और 10वीं सदी तक एक व्यवस्थित और विकसित नगर का रूप ले चुका था. 12वीं सदी तक यह सभी विषय के स्कॉलरों, विशेषज्ञों सहित व्यापार, धर्म-अध्यात्म, कला, साहित्य और ज्ञान-विज्ञान के एक महत्वपूर्ण इस्लामिक केन्द्र के रूप में जाना जाने लगा था. सबसे पहले इस शहर का जिक्र मोरक्कन यात्री इब्ने बतूता ने 1353 में किया है. इस्लामिक शासकों के दौर में फला-फूला माली साम्राज्य 19वीं सदी (15 दिसंबर 1893) में जब फ्रांसीसियों के अधीन हुआ तो यह उन्नत नगर भी उनके उपनिवेश का हिस्सा हो गया. फिर 22 सितंबर 1960 को जब माली गणराज्य एक स्वतंत्र राष्ट्र बना तो टिम्बकटू ने भी आजादी की सांस ली.

1960 तक लाखों पांडुलिपियां और ग्रंथ गुलामी के कारण कई सदी तक दुनिया से छुपी रहीं. रसोई घर में, जानवरों के गोहाल में और जमीन के नीचे दबकर. लेकिन आजादी मिलते ही प्राचीनतम पुरानी किताबें हवा और धूप सेंकने बाहर आ निकलीं. तब जाकर दुनिया को पता चला और शुरु हुआ इंसानी ज्ञान के दुर्लभ लिखित स्रोतों के खोज और संग्रह का अनूठा अभियान. अब तक के खोज अभियानों के अनुसार टिम्बकटू में इंसानी ज्ञान के 7 लाख से भी अधिक अत्यंत प्राचीन पांडुलिपियों का संग्रह है. ये पांडुलिपियां समूचे टिम्बकटू क्षेत्र के निवासियों के घरों में संरक्षित हैं. 90 के बाद से इनके संग्रह का अभियान शुरू हुआ जो अब भी जारी है. संग्रह अभियान के फलस्वरूप कई परिवारों ने या तो खुद ही या फिर कई परिवारों ने मिलकर संग्रहालय-पुस्तकालय बनाकर पांडुलिपियों को सार्वजनिक रूप से उपलब्ध कराने की पहल की. इन कोशिशों का परिणाम है कि मात्र 54,453 आबादी वाले इस ऐतिहासिक केन्द्र टिम्बकटू में 60 से अधिक निजी और सरकारी पुस्तक पांडुलिपि संग्रहालय हैं. अनुमान है कि अभी भी हजारों पांडुलिपियां अनेक घरों में मौजूद हैं. जिन्हें संग्रहित नहीं किया जा सका है.

   1988 में यूनेस्को ने टिम्बकटू को ‘इंसानी सभ्यता की अनमोल धरोहर’ घोषित कर चौदहवीं-सोलहवीं शताब्दी में निर्मित तीन अनूठे विशाल इस्लामिक मस्जिदों (झिंगिरबर, सैंकोर, सिदी याहिया) और लाखों प्राचीन पांडुलिपियों के संरक्षण की ओर दुनिया ध्यान खींचने की कोशिश की. 2012 में यूनेस्को में इसे ‘वर्ल्ड हेरिटेज साइट इन डेंजर’ की सूची में भी शामिल किया. पर टिम्बकटू के इस्लामिक धार्मिक स्थल और पांडुलिपियांे के संरक्षण की तमाम कोशिशें अलकायदा समर्थित कट्टरपंथी गुटों के फतवों का खतरा झेल रहे हैं. यूनेस्को के धरोहर विशेषज्ञों का मानना है कि तीन महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों में से एक झिंगिरबर मस्जिद, जो 1327 का निर्माण है, को भारी नुकसान पहुंचाया है और कई संग्रहालयों को या तो नष्ट कर दिया गया है या फिर उन्हें जला दिया गया है. यूनेस्को के डेविड स्टेल ने 3 जुलाई को नुकसान का आकलन करते हुए कहा, ‘अहमद बाबा इंस्टीच्यूट ऑफ हायर लर्निंग एंड इसलामिक रिसर्च’ में 46 हजार पांडुलिपियां थी जिनमें से 4203 पांडुलिपियों की या तो चोरी हुई है या फिर उन्हें जला दिया गया है.

      ध्यान रहे कि अप्रैल 2012 में अलकायदा इस्लामिक मगरिब संगठन के विद्रोहियों ने टिम्बकटू पर कब्जा कर लिया था जो जून 2013 में फ्रेंच और माली सेना की संयुक्त कार्रवाइयों के बाद मुक्त हो सका. पर इस एक साल के कब्जे के दौरान प्राचीन धार्मिक स्थलों और पांडुलिपियों को बहुत नुकसान पहंुचाया गया. विद्रोही गुटों ने फतवा जारी कर प्राचीन इस्लामिक धार्मिक स्थलों और पांडुलिपियों को ‘शरिया’ कानून के तहत इस्लाम विरूद्ध मानते हुए उनके नष्ट करने की घोषण कर रखी है. कट्टरपंथियों से पांडुलिपियों को बचाने के लिए लोगों ने सरकारी और व्यक्तिगत प्रयासों से जान जोखिम में डालकर लाखों प्राचीन ग्रंथों की ‘तस्करी’ की. इंसानी इतिहास में पुस्तकों को बचाने का ऐसा प्रयास पहली बार दुनिया ने देखा है.

         बौद्धिक और आध्यात्मिक केन्द्र टिम्बकटू मूलतः अफ्रीकन आदिवासियों ने विकसित किया था. नालंदा-तक्षशीला और एथेंस जैसे केन्द्रों की तरह ही टिम्बकटू भी ज्ञानार्जन का एक प्रमुख केन्द्र था. चूंकि एक अच्छी-खासी अफ्रीकन आदिवासी आबादी ने इस्लाम अपना लिया था और वे अपने ज्ञान-विज्ञान से ईसाई धर्म व शासकों को चुनौती दे रहे थे, इसलिए पश्चिमी देशों ने इस केन्द्र के बारे में चुप्पी साध ली और अपने लिखित इतिहास से इसे बाहर धकेल दिया. विशेषज्ञों के मुताबिक लाखों पांडुलिपियों में से लगभग 10 प्रतिशत स्थानीय अफ्रीकन आदिवासी भाषा ‘अजामी’ में हैं जिन्हें अरबी में लिपिबद्ध किया गया है. इसके अलावा इन पांडुलिपियों में अफ्रीका की लगभग सभी भाषाएं अंशतः शामिल हैं. विशेषज्ञ यह भी बताते हैं कि इन दुर्लभ और अनमोल ग्रंथों के रचयिता अफ्रीकन आदिवासी ही हैं जिसके अध्ययन के द्वारा हम उस इतिहास को खारिज कर सकते हैं जिनमें औपनिवेशिक शासकों ने अफ्रीका को बर्बर व असभ्य समाज के रूप में चित्रित कर रखा है. टिम्बकटू और माली के अन्य क्षेत्रों में मिले प्राचीन पांडुलिपियों व ग्रंथों को विषय के आधार पर 73 विशिष्ट वर्गों में विभाजित कर उनके डिजिटाइजेशन और अध्ययन का काम जारी है. जानकर आंखें खुली की खुली रह जाती हैं कि टिम्बकटू में 15वीं-16वीं सदी तक धर्म, अध्यात्म और ज्ञान के 150 केन्द्रों और 25 हजार विद्यार्थियों के होने के लिखित प्रमाण हैं. जबकि नालंदा में महज 10 हजार विद्यार्थियों के होने की सूचना मिलती है. टिम्बकटू अब तक ज्ञात ज्ञान के सबसे विशाल विश्वविद्यालयों में से है जहां दुनिया भर के लोग अध्ययन और शांति के पैगाम का विस्तार करने के लिए, सीखने के लिए आते थे.

                                                                                                  - अश्विनी कुमार पंकज

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें