शनिवार, 11 अक्तूबर 2014

अभी तुम फोन मत करना




हया पहनें, वफ़ा ओढ़ें, बिछाकर याद सो जाएँ

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें