शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2015

शौहरत पाँव की जंजीर है वो आपसे आपकी आजादी छीन लेती है .आप अगर पब्लिक पर्सन हैं तो आप सड़क पे कुलचे छोले नहीं खा सकते हैं ,सड़क चलते सीटी नहीं बजा सकते हैं .ऊँची आवाज में गा नहीं सकते हैं, हँस नहीं सकते हैं .गुमनाम वो सब कर सकता है जो एक आवारा आदमी करता है. अब ये कहने की तो कोई जरुरत ही नहीं है कि आवारगी के अपने मजे हैं .

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें