गुरुवार, 17 मार्च 2016


चमक दमक से मत भरमाओ, नाग केंचुली बदल रहा  है
देखोगे कुछ देर बाद मुँह खोल जहर ये उगल रहा है  .
सावधान भोले बच्चों को  इससे दूर बचाकर रखना  
ऐसा ना हो खामोशी से घूम घूम  ये निगल रहा है .

ये डस ले तो नहीं बचोगे, चाहे जितना फूँकों झाड़ो 
अच्छा हो जो इसके जहरीले दाँतों को तोड़ उखाड़ो .
लप लप जीभ दिखाये कितनी,कितनी ही फुंकार भरे ये 
इससे तुम बिलकुल मत डरना घेरो, मारो, गहरा गाडो .







0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें