बुधवार, 2 मार्च 2016

भगवा झंडा

ये भगवा झंडा किसका है ?
झंडे  में डंडा किसका है ?
झंडा तो अपना लगता है
ना जाने डंडा किसका है ?
                                ये भगवा झंडा किसका है ?
                               झंडे में डंडा किसका है ?
ये झंडा लेकर कौन चला ?
ये खाकी नेकर कौन बला ?
ये काली टोपी कैसी है ?
देशी तो नहीं विदेशी है .
                     इनको जानों पहचानों तुम
                     इनका रंग ढंग हिटलर का है .
                                   ये भगवा झंडा किसका है ?
                                    झंडे  में डंडा किसका है ?

ये झंडा लिए कहाँ जाते ?
हर-हर, बम-बम क्यों चिल्लाते ?
लगते फ़ौजी टुकड़ी से हैं
कुछ इठलाते, कुछ इतराते .
                         इनके लाठी लहराते ही
                         हिंसा होगी डर लगता है .
                                ये भगवा झंडा किसका है ?
                                  झंडे  में डंडा किसका है ?

पर हम इतना क्यों घबराते ?
फ़ौजी तो आते और जाते .
समझा ये नकली फौजी है
धंधा इनका  खूरेंजी है .
                       वो इनका टोली नायक है
                       जो आग लगाकर खिसका है .
                             ये भगवा झंडा किसका है ?
                             झंडे में डंडा किसका है ?

ये गुंडें और मवाली हैं
करतूते इनकी काली हैं .
इनसे चौकस रहना होगा
डरना कैसा लड़ना होगा .
                             गर ये पत्थर दिल रखते हैं
                             अपना दिल शेर बबर का है .
                                         ये भगवा झंडा किसका है ?
                                          झंडे में डंडा किसका है ?

मंदिर मस्जिद के झगड़ों में
दलितों पिछड़ों में, अगड़ों में .
भर पाये कोई जहर नहीं
ना टूटे कोई कहर कहीं .
                            ये दश हमारा सबका है
                           बाबा का नहीं किसी का है .
                                               ये भगवा झंडा किसका है ?
                                                  झंडे  में डंडा किसका है ?

                                   

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें