बुधवार, 9 नवंबर 2016

कवि ने मिसरा चुराया, चोर नगदी ले उड़े
नोट चोरो का चला ना, और मिसरा चल गया .
[मधुर जी पर मिसरे नकल करने का आरोप वायरल हो रहा है।]



हर शख्श फ़िक्रमंद है घर में जमा नोटों से  
रूठी हुयी बीवी से,बिगड़े हुए बेटों से
जो नोट पांच सौ या हजार का ही लेते
गुस्से में लाल होते जब आज उन्हें देते .

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें