शुक्रवार, 22 सितंबर 2017

समझदार को चाहिए, घनी करे ना प्रीत |                                                                                             हनीप्रीत बेघर हुई, गया जेल गुरमीत ||



इश्क, मोहब्बत और अदावत बिन पूछे हो जाती है |
उसका कोई नहीं ठिकाना पूछ रहा जो जाति है|

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें