शुक्रवार, 29 दिसंबर 2017

दिलों की बात है दिल से ही कही जायेगी 
जो दिल से निकली तो दिल तक पहुँच ही जायेगी |
मुझे हुनर ना सिखा अपनी बात कहने का 
ये हुनरबंदी नहीं मुझ को कभी आएगी |


दिल में गोडसे जेब में गांधी और जुबां पर रखे पटेल 
सारे भक्त किये जाते हैं राष्ट्रवाद की पेलमपेल |
इनसे बचकर रहना मित्रों कहीं नहीं टकरा जाना 
ऐसा ना हो पाकिस्तान में तुमको ही दें कभी धकेल |

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें