रविवार, 25 फ़रवरी 2018

वादा था पंद्रह लाख मिलेंगे,मिला ना एक रुपैय्या
जो जमा बैंक में किया उसे भी ले गया मोदी भैया |
                                    नाचो मिलकर था था थैय्या,उड़ गए ले के सोन चिरैया|

छोटा मोदी,मंझला मोदी, बैठा बड़का मोदी
लम्बी लम्बी फेंक रहे सब बात करें ना बोदी...
हम तो पक गए सुन बकचोदी,बैठे मुंह बाए हैं भैया, 

कब तक झूठे जुमले झेंलें, अब हद हो गयी ज्यादा
कहने को पूरा कर देते, कोई तो इक वादा |
ओरे छप्पन इंची दादा, लेती हिचकोले है नैया, टूटी अपनी आस खिवैय्या

अपनी खता नहीं कुछ ज्यादा, केवल वोट दिया सरकार
कोई तीसमारखाँ ना हम ,केवल लिए कलम की धार
हम पर रहम करो सरदार, पीटों चाहे रोज कन्हैया |  

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें