सोमवार, 11 जून 2018

जो मन में आया लिख डाला,जाने क्या क्या  है कह डाला
और उन्होंने भी मनचाहा उसका मतलब खूब निकाला |
ऐसा मतलब जिसका मुझको अभी तलक कुछ पता नहीं था
वो देख लिया सब उसमें जिसका  कोई जिक्र नहीं था |





जब जान को इतना खतरा है तो काहे घूमते रहते हो ? 
चुपचाप जरा घर में बैठो कुछ काम करो,कुछ काम करो।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें