शुक्रवार, 10 अगस्त 2012

राधे कृष्णा

एक चोर  का 
जार का 
कायर सियार  का  
महाभारत रार का 
जन्म दिन मन रहा
खुश मर्द काईयाँ  
बज रही बधाईयाँ 
गा रहीं लुगाइयाँ- 
'आप तो रक्खो  
सौ सौ लुगाईयाँ
हमको तो एक ही दीनो 
कान्हा तूने बड़ा जुल्म कीन्हों'.
  -अमरनाथ 'मधुर' 

ایک چور کا
زار کا
كاير سيار کا
مہابھارت رار کا
سالگرہ من رہا
خوش مرد كاييا
بج رہی بدھاييا
گا رہیں لگايا -
'آپ تو رکھو
سو سو لگاييا
ہم کو تو ایک ہی دینو
کانہا تو نے بڑا ظلم كينهو '.
   - امرناتھ 'مدھر'
कविता पर फेसबुक पर विवादित हो गयी है.वहाँ के संवाद देखिये -





  • You, Manish Kumar YadavMudassir Khan and 2 others like this.
  • 100 of 104

    • Manish Kumar Yadav ‎@Satyendra ji ..... mai yaha kehna chahunga ke wo 16100 kanyaye alag rajya se utha kar laayi gayi thi aur unko Shri Krishna ne chhudaya tha ....... Jab Shri Krishna ne youdh jitne ke baad uk striyo ko ghar jaane ke liye azaad kar diya to striyo ne prashn uthaya ke kya samaaj unhe swikaar karega, ye jillat ki jindagi kaise kaat sakengi, we striya raaj kanyaye thi parantu un striyo per vyaishya hone ka thappa lag chuka tha ya yehi bhavishya tha .......... To Shri Krishna ne unhe kaha aap logo ko mai swikaar karonga sara sansaar aplogo ko meri patni ke roop me janega, jo ki sharirik nahi snehi hoga ...
      11 hours ago · 

    • Manish Kumar Yadav kya koi jo waishyaon ko bhi patni ke roop me, sansarik dukho aur pratanao se udhaar kar de, unhe bhagwaan ya udhaarak nahi samajhna chahiye .......
      11 hours ago · 

    • Manish Kumar Yadav kya manaw aur desh ki bhalai ke liye piche nahi hatna chahiye, kya manaw dharm se adhik bada kshtirya dharm hota hai, .... kya nagarwaasiyo ko hone waale yudho ke jarjar hote samaj ko le kar playan karna ..... kayartaa hai,
      11 hours ago · 

    • Manish Kumar Yadav kya mahabharat se pehle, sabke viprit aur anukul prasthitiyo me Shanit ki bheekh mangne nahi gaye the ,,,....... to phir ye ilzaam kyo ? kya kewal Gita Gyaan ki wajah se..
      11 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Ji manish ji. Usme se 14000 fml sirf shishupal ki gulam thi baki othrs ko jeetne par
      11 hours ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav mai aapse bahut prabhawit hoon, apke comments hamesha se, kamjoro ke paksh me hote hai,...... Parantu dharm per mai aapse bilkul sehmat nahi ho,... कृष्ण ने नदी में निर्वस्त्र स्नान कर रहीं गोपिकाओं के वस्त्र चुराकर पेड़ में टांग दिए। स्नान के बाद जब गोपीकाओं को पता चला तो वे कृष्ण से मिन्नतें करने लगीं। कृष्ण ने आगाह करते हुए कहा कि नग्न स्नान से मर्यादा भंग होती है और वरुण देवता का अपमान होता है, वस्त्र लौटा दिए।
      10 hours ago · 

    • Amarnath Madhur सत्येन्द्र जी अभी संस्कृति /अपसंस्कृति पर हुए संवाद को दुबारा पढ़ लें और ये भी सुनिश्चित कर लें की अन्ना के अनशन ख़त्म करने पर आपके क्या विचार हैं तथा इस्लाम में चार औरतों से विवाह के सम्बन्ध में आपके क्या विचार हैं ?वही मानदंड अपने धर्म के लिए भी अपनाएं जो आप दूसरों पर लागू करते हैं.अन्ना भूख हड़ताल ख़त्म कर दे तो कायर है और कृष्ण युद्ध का मैदान छोड़कर भाग जाए तो भी पूजनीय है. मुसलमान चार औरतों से विवाह कर ले तो खराब है और श्रीकृष्ण गैर औरतों लड़कियों से सम्बन्ध बनाए तो रास लीला है ? मेरी कविता की बाद की पंक्तियाँ एक लोक गीत से ली गयीं हैं जिसमें महिलायें श्री कृष्ण से सवाल करती हैं कि जब वो कई कई औरतों से सम्बन्ध रखता है तो उन्हें क्यों एक ही मर्द से बाँधा गया है? उन्हें क्यों कई मर्दों से सम्बन्ध की स्वतंत्रता नहीं है ? ये वही सवाल है जो आज नारी वादियों द्वारा सारी दुनिया में उठाया गया है और देह की स्वतंत्रता को सबसे ऊपर घोषित किया गया है ,सवाल और जबाब सदियों पुराने हैं और हमारे धर्म और संस्कृति में विद्यमान है .बस उन्हें देखने का नजरिया खुला होना चाहिए .लेकिन समस्या ये है की हमें ऐसी चीजों को श्रद्धा से देखना और मानना सिखाया गया है तर्क और बुद्धि के इस्तेमाल की अनुमति नहीं दी गयी है. लेकिन तर्क और बुद्धि के इस्तेमाल से समझने के बाद जो श्रद्धा उत्पन्न होती है वही उचित है. आप इस बात से भी सहमत होंगें कि हमारे धार्मिक ग्रंथों में बहुत कुछ प्रक्षिप्त है जो कवियों और लेखकों ने अपनी कल्पना [जिसमें काम कुंठा भी शामिल है] से जोड़ा है. सारा विवाद इसी से उत्पन्न होता है.
      10 hours ago ·  · 1

    • Amarnath Madhur मैं किसी भी मामले में दोहरे माप दंड अपनाये जाना पसंद नहीं करता हूँ. शुरू से आखिर तक आप मेरे सारे लेख/कविता देख लीजिये उसमें वैचारिक विकास तो नजर आएगा लेकिन वैचारिक बेईमानी कहीं नहीं दिखेगी . मैं ये साबित कर सकता हूँ कि सांस्कृतिक राष्ट्रवादी और जातिवादी दोहरे मापदंड रखते हैं.
      10 hours ago ·  · 1

    • Manish Kumar Yadav ap vyaktigat ya samajik maap dando ke adhaar per auro ko bhi ahaat kar rahe hai, jo nishpakhs bhi hote hai ......
      10 hours ago · 

    • Manish Kumar Yadav snskritik rashtrwadi ya koi anya dharm dohare mapdand rakh sakte hai parantu Sanatam Dharm ek shiksha hai, dharm aur adharm ki vyakhya karta hai, jiwan ki prinaamo aur kirityo ko dharshata hai ..... aaj koi is dharm ke raste per nahi hai, warna unhe Allah ko pujne me koi kathinayi nahi hoti agar wo khud bakiyo ka wazood na nakaar dete, ... .. to koi 4 bibiya rakhe ya 4000 ya koi ek pati rakhe ya 5 pati... ye karm hai, iske parinaam apekshit hai, dharm kuch aur hai jiske prinaam bhi vyavsthit hai
      10 hours ago · 

    • Amarnath Madhur इस कविता में ऐसा कुछ नहीं है जो पहले न कहा सुना गया हो .
      10 hours ago · 

    • Amarnath Madhur जिसे आपने सनातन धर्म कहा है या जो वास्तव में धर्म है उस पर कहाँ कोई विवाद है. विवाद तो उस पर है जो धर्म के नाम पर अधर्म किया जाता है. उसका बिना किसी भेदभाव के विरोध जरुरी है जो हम कर रहें हैं. इससे किसी आस्तिक आदमी की भावनाओं को ठेस पहुँचती है तो पहुंचे. जो लोग गैर धार्मिक आदमी की भावनाओं का ख्याल नहीं करते हैं उनकी भावनाओं के लिए इंसानी फर्ज से मुंह नहीं मोड़ा जा सकता है.इंसान का फर्ज है कि वो अंधविश्वासों को बढ़ावा देने वाले का विरोध करे और तर्क और विवेक सम्मत विचारों और विश्वासों का प्रचार प्रसार करे .
      10 hours ago · Edited · 

    • Manish Kumar Yadav madhur ji ...mai apke nishpaksh coments ko lekar kaphi prabhawit rehta hoon aur apko hamesh kamjor vargo aur atatiyo ke virudh hi paya hai ....... ye kehna chahunga, ki jab aap adharm ka virodh kar rahe hai to khyal rakhiyega ki shradha aur bhakti koi adhrm nahi hai, jab bakht shirimani ki alochana kare to khyal rakhiyega k wo GURU ki tarah shiksha de gaye unka karm hi is ka adhaar hai, wo jo bhi dharti per janm liye chahe wo bagwaan kyo na ho, karm ka partifal awashya mila yahi sandesh Shri Krishna ji apne Jwaan se udhrit kar ke gaye hai jinke kul ka vinaash hua aur jo warah ke hatho mare gaye ....
      10 hours ago ·  · 1

    • Satyendra Yadav Madhur ji.. Anna ji agr kal ko jeet jate hai gvt se apne kisi niti k tahat to nisandeh nayak honge.. Agr wo har man kar baith gaye to kayar.. Mai apne har statement par kayam hu.. Nititya waqt k hisab se.. Us waqt bahu patniwad theek tha. Aj nhi. Mai muslm ki alochna aj ki niti par karte hai na ki quran likhte waqt ki.
      9 hours ago via mobile ·  · 1

    • Satyendra Yadav Ek faishion k tahat log dharm ko gali dete hai. Aur kuch nhi. Khaskar udar hone k karan hinduo ki alochna modern hone ki guaranti hai.
      9 hours ago via mobile · 

    • Amarnath Madhur आप तो रक्खो
      सौ सौ लुगाईयाँ
      हमको तो एक ही दीनो
      कान्हा तूने बड़ा जुल्म कीन्हों'
      9 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Radha ka udharan bhul gaye ho madhur ji aap.. Wo shadi shuda thi aur umra me badi v.. Krishn ki premika ka darja unhe hi hai.. Unke pati ka nam govardhan tha. Na ki krishn..
      9 hours ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Mr. Madhur ji.. Aj kal kuch auqte v 100 nhi 1000 mard rakhti hai. Ye bat alg hai ki ham unka samman nhi kar sakte. Krishn ki wifes ki quantity unki naitik majburi thi. Ayyashi nhi. Aur jo log ye kahte hai ki fml aur male me fark nhi wo dhong karte hai. Aur kuch nhi.
      9 hours ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Krishn ki mrityu hui thi warah k hatho. Pariwar ki nhi. Unki 8 patniyo se 80 putr the jo bad me raj pat chala rhe the. Itihas dubara padho. Nam mai bhijwa dunga unke putr aur patniyo k.
      9 hours ago via mobile · 

    • Amarnath Madhur ये बहस बिल्कुल गलत दिशा में चली गयी है अगर क्रष्ण पर ही विवाद करना होता तो कुछ और भी लिखा जा सकता था. आप लोक गीत में व्यक्त स्त्री भावनाओं को नहीं देख रहें है जो समाधिकार मांग रहीं है.वैसा ही अधिकार जैसा पुरुष को कई स्त्रियों से सम्बन्ध रखने का समाज ने मौन स्वीकृति देकर किया हुआ है. श्री कृष्ण भगवान है तो क्या हुआ अगर उसे अनेक स्त्रियों से सम्बन्ध रखने का अधिकार है तो स्त्री को ऐसा अधिकार क्यूँ नहीं है. ये सवाललोकगीत में मुखर हुआ है .अगर आप गहराई में जाएँ तो यह बंधन पहले नहीं था स्त्री और पुरुष बराबर थे बल्कि स्त्री इस मामलें में ज्यादा स्वतंत्र थी. समाज के पुरुष प्रधान हो जाने पर स्त्रियों के आचरण पर तमाम तरह की पाबंदियां लगाई गयी तथा यौन शुचिता को स्त्री के चरित्र से, इज्जत से जोड़ा गया है.उसे स्त्री का अनमोल गहना बताना और दूसरों के इस गहने लूटते फिरना पौरुष की पहचान माना जाने लगा था.आज भी स्त्री की ही इज्जत लुटाती है पुरुष की नहीं .ज्यादा से ज्यादा उसकी इज्जत गिर जाती है.क्या ये दोहरा मापदंड नहीं है? तसलीमा नसरीन जैसी नारीवादी लेखिका इस दोहरे माप दंड के खिलाफ आवाज उठा रहीं हैं जो कभी कभी अतिवादी हो जाती है लेकिन बात अपनी जगह सही है.
      9 hours ago · Edited ·  · 1

    • Satyendra Yadav Yauwn suchita tb v thi aur aj v.. Agr kisi ki patni kisi dusre mard se sambandh banati thi tb v anaitik tha aur aj v.. Ha kumari ladkiya tb ajad thi aj se jyada.. Jb mard k pas ladkiyo ki bharmar thi tb aurto k prati apradh v kam the.
      9 hours ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav ‎@Satyendra ji ..... jaankaari dene ke liye dhanyawaad, mujhe har chhetra me jaankaari ka abaaw hai, mai swikaar krtaa hoon,...
      9 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Yauwn suchita tb v thi aur aj v.. Agr kisi ki patni kisi dusre mard se sambandh banati thi tb v anaitik tha aur aj v.. Ha kumari ladkiya tb ajad thi aj se jyada.. Jb mard k pas ladkiyo ki bharmar thi tb aurto k prati apradh v kam the.
      8 hours ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav parantu madhur ji, ye geet jaankaari ke abhaw me hai.... jabki reality iske viprit hai , agar mai gehraai se sochu to mujhe isper ek lekh likhana hoga .....
      8 hours ago ·  · 1

    • Amarnath Madhur मनीष भाई आप जरुर लिखो.ऐसे ही विचार जन्मते और परवान चढते हैं.
      8 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Madhur ji. Taslima ji ko kaun rokta hai anek purusho se sambndh rakhne se? Mard jyada se jyada talak de sakta hai jo ki uska haq hai. Aap ye to nhi kah sakte ki g b road wali ko patni swikarna meri badhyta hai..
      8 hours ago via mobile · 

    • Neer Gautam bhaiya yeh toh bda achcha kiya tha kishan kanhaiya ne
      8 hours ago · 

    • Sultan Meer गोपियों के साथ रासलीला मानाने वाले, अत्याचारी , चोर , हत्यारा, झूठा , अपनी पतनी रुकमनी के होते हुए राधा के साथ अवैध सम्बन्ध रखने वाला, गीता में अर्जुन को उल्टा सीधा पाठ सिखाने वाला , अपने सगे मामा का हत्या करने वाला और महाभारत में अर्जुन को भी अपने सगे सम्बन्धियों की हत्या करने को कहने वाला, माखन चोर क्रिशन का आज जन्मदिन है कृष्ण के जनम दिन को हमें भारत के कलंक दिवस के रूप में मानना चाहिए ....
      8 hours ago · 

    • Amarnath Madhur सुल्तान मीर जी थोडा रुक जाओ.हमारा समाज कहने को ही उदार है अभी मुझे ही नहीं पचा पा रहा है तो आपकी बात कौन सहन करेगा ? हाँ दूसरों के धर्म का मसला हो तो एक से बढ़कर एक वाग्वीर निकल पड़ेंगे. आप अपने घर को देखो मैं अपना घर ठीक करता हूँ.
      8 hours ago ·  · 1

    • Satyendra Yadav Mr. Sultan meer.. Anyayi ki hatya koi gunah nhi. Baki logic dekho upar. Mar madhur kaun jhel nhi pa rha hai ye logics se pata chalta hai.. Har bat ka logics hai. Unki ek patni nhi 8 thi. Thoda padh lo tb bat karna.
      8 hours ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Bina logic k janwar bhaukte hai sultan ji..
      8 hours ago via mobile ·  · 1

    • Satyendra Yadav Mr sultan jis bat ka jbab na mile wo puchhna. Mai har sanaki ko nhi samjha sakta.
      7 hours ago via mobile ·  · 1

    • Neer Gautam Chodo satyendra bhaiya ab itni bhi meer sahab ki mat lo......... :)
      7 hours ago · 

    • Sultan Meer एक चोर जार का , कायर सियार का
      महाभारत के रार का , जन्म दिन मना रहा
      खुश मर्द काईयाँ , बज रही बधाईयाँ गा रहीं लुगाइयाँ-
      'आप तो रक्खो सौ सौ लुगाईयाँ
      हमको तो एक ही दीनो , कान्हा तूने बड़ा जुल्म कीन्हों'

      गोपियों के साथ रासलीला मानाने वाला, असुरों पर अत्याचार करने वाला अत्याचारी , दूध और मक्खन की चोरी करने वाला चोर , कई असुरों की हत्या करने वाला हत्यारा, अपने माँ और बाप से भी झूठ बोलने वाला, अपनी पतनी रुकमनी के होते हुए राधा के साथ अवैध सम्बन्ध रखने वाला, गीता में अर्जुन को उल्टा सीधा पाठ सिखाने वाला , अपने सगे मामा का हत्या करने वाला और महाभारत में अर्जुन को भी अपने सगे सम्बन्धियों की हत्या करने को कहने वाला, माखन चोर क्रिशन का आज जन्मदिन है कृष्ण के जनम दिन को हमें भारत के कलंक दिवस के रूप में मानना चाहिए .... iss poori ghatanakrm me koun si bat galat athwa asatya hai ? sach ka saman kijiye ? aur Bhagwan Krish ke buraiyon ko janiye
      7 hours ago ·  · 1

    • Sultan Meer ‎1- Kya Krish gopiyon ke sath raslila nahi karte the ? jawab Ha
      2- Kya krishn ne asuron per jurm nahi kiya tha ? jawab Ha
      3- Kya Sri Krishn Rukmani ke hote hue Radha ke chhakar me nahi pade the ? jawab Ha
      4- Kya Sri Krishan ne apane Mama Kans ka murder nahi kiya tha ? jawab Ha
      5- Kya Sri Krishn ne arjun ko nahi kaha tha ki yudh me apane sage sambadhiyon ki bhi hatya kar diya karo jaise main apne mama kansh ka kar diya hai waise hi tum bhi bhishm pitamah, dronacharya, etc ki bhi hatya kar dalo.Jawab Ha
      fir aise vayaki ka hame janam din manana chaiye ya kalank diwas ke roop me manana chahiye ?
      7 hours ago ·  · 1

    • Amarnath Madhur Sultan Meer jee ab aise tirakshe sawalon ka koyi seedha jaba nheen milega hamen dekhane do dimagon menjama kachara kaise saaf hota hai. mujhe aasha hai ye ham bina kisee kee madad ke kar lengen.
      7 hours ago ·  · 1

    • Manish Kumar Yadav kuch problem hai mera post yaha ...update nahi ho paa raha hai ,,..
      7 hours ago · 

    • Manish Kumar Yadav एक प्रचलित गीत अथवा उलाहना
      बागवान श्री कृष्ण जी को / मेरे विचार,

      एक चोर का
      जार का
      कायर सियार का
      महाभारत रार का
      जन्म दिन मन रहा
      खुश मर्द काईयाँ
      बज रही बधाईयाँ
      गा रहीं लुगाइयाँ-
      'आप तो रक्खो
      सौ सौ लुगाईयाँ
      हमको तो एक ही दीनो
      कान्हा तूने बड़ा जुल्म कीन्हों'

      कृष्ण ने नदी में निर्वस्त्र स्नान कर रहीं गोपिकाओं के वस्त्र चुराकर पेड़ में टांग दिए। स्नान के बाद जब गोपीकाओं को पता चला तो वे कृष्ण को अमर्यादित कहने लगी (जो बालक थे) और कहा के ये अपमान है इसकी शिकायत यशोदा से करिंगी।
      कृष्ण ने आगाह करते हुए कहा कि नग्न स्नान से क्या मर्यादा भंग होती है और वरुण देवता का अपमान होता है,
      ये एक उपदेश समाज में था।

      जिसे नहीं समझा गया, आज लोग कपडे सबके सामने उतार कर स्विमिंग पूल में स्त्री मर्द एक साथ दुबकी लगाते है और हाथ भी, पर श्री कृष्ण को हम वस्त्र चोर कहते है!

      वो भला हो दुशाशन का जिनके वजह से, श्री कृष्ण का उद्धार हुआ और वो द्रोपदी चीर हरण के बाद कुछ और भी कहलाये .....
      7 hours ago · Edited · 

    • Sultan Meer सुल्तान का सवाल : कृष्ण जी हमेशा अर्जुन के चक्कर में क्यों रहते थे ? गीता का उपदेश भगवान कृष्ण ने अर्जुन को ही क्यों दिया ?

      जवाब :- देखिये कृष्ण एक चालाक, रसिक मिजाजी, धोखेबाज, झूठ बोलने वाले , चोरी करने वाले , गोपियों के साथ रासलीला करने वाले, धूर्त व्यक्ति थे, और उनकी सबसे बड़ी कमजोरी थी जवान गोपियाँ, पतनी रुकमनी के होते हुए भी उन्होंने राधा को अपने प्रेम जाल में फाँस रखा था, वो अक्सर नदी के किनारे चले जाते थे और वहा जाकर गोपियों को नहाते हुए देखते थे और उनके कपडे भी घाट पर से उठा कर अपने पास ले लेते थे गोपियाँ मजबूरी में अपना जिस्म उनको दिखाते हुए अपने कपडे उनसे लेती थी , जब कृष्ण को पता चला की द्रोपदी जैसी एक सुन्दर महिला को अर्जुन जैसे बेवक़ूफ़ युवक ने अपने पाँच भाइयों के लिए विवाह कर के ले आया है तो वो इस परिवार के साथ हो लिए और द्रोपदी के चक्कर में वो पांडवों के परिवार के प्रति अपनी सहनुभोती दिखाए, वो द्रोपदी को पाना चाहते थे इसके लिए वो उसके मेन पति अरुजुन की चमचागिरी करने लगे किन्तु आइन टाइम पर कौरवों ने उनका बना बनाया सारा खेल चोपट कर दिया हुआ यूँ की जब दुर्योधन भी द्रोपदी पर अकर्सित हो गया और जुए में पांडवों को हराने के साथ द्रोपदी को पा लिया और उसकी इज्ज़त को लूटना चाहा तब द्रोपदी ने क्रिशन से मदद मांगी क्रिशन अपनी प्रेमिका द्रोपदी की रछा के लिए तुरंत तैयार हो गये और द्रोपदी की साड़ी को खुलने ही नहीं दिए किन्तु उनको जोरदार झटका तब लगा जब भोली भाली द्रोपदी ने उनके इस काम से खुश होकर उनको अपना भाई बना लिया, अब वो क्या कर सकते थे वो करवों पर घुस्सा हो गये की इन्ही सालों की वजह से द्रोपदी हाँथ से निकल गयी और मै साला उसका भाई बन बैठा .. वो करवों को मारने के लिए अर्जुन को उल्टा सीधा पाठ पढ़ाने लगे जिसको गीता में लिखा गया , चमचागिरी की हद्द तो तब पार हो गयी जब वो अर्जुन के रथ का सारथी (ड्राईवर) तक बनने को तैयार हो गये, अंत में कृष्ण ने हस्ते खेलते कौरवों के परिवार को निस्तोनाबूद करवा डाला और महाभारत का युध्ह भी इन्ही की वजह से हुआ जिसमे कई लाख सैनिक मारे गये ..

      सुल्तान का फैसला :- द्रोपदी के चक्कर में क्रिशन अर्जुन की चमचागिरी करते थे ...
      7 hours ago · 

    • Manish Kumar Yadav माखन चुराते थे, जब उन्हें चोर कहा जाता, तो आगाह करते हुए कहते की, इस माखन को भी तो लोग गायों और उनके बछड़ो से चुरा रहे है, लोग आवश्यकता से अधिक दोह कर मटकी में बटोर कर व्यापार कर रहे है, इसकी लोभ में ही तो गायों को खुतो से बांध कर कैद रखते है,
      ये एक मानवीय सन्देश था, अतिधोहन के विरुद्ध
      जिसे नहीं समझा गया, वो तो एक चोर बन गए और, गयो के मांस, हड्डियों, चर्बियो, अटदीयों और खून तथा चर्म्टेल का व्यापार तक होने लगा
      7 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Mr meer. Aapko kitna pata hai us waqt ki nitiyo k bare me?
      7 hours ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Krishn ki ras lila par bhaukne wale ras lila k waqt ki age pata kar le krishn k. 10 sal se kam thi. Aur radha ji unse 10 sal badi thi.. Ab batao krishn k ras lila me kya galat tha.?
      7 hours ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav एक राज्य, जिसकी प्रजा आक्रमण कारी युध की बर्बरता से जर्जर हो गया हो, जिसे देख कर उन्होंने कहा की वीरता का प्रदर्शन करना बुद्धिमानी नहीं अपितु झूठा दंभ है वो भी उसके लिए जो बार बार हार कर और असहाय हो कर गया हो, तो वो राजधर्म और मानवधर्म, समाज धर्म को अपने दंभ से उपर रखते हुए रणछोर कहलाये द्वारका भाग गए!
      दूसरी और सबके इच्छा के विरुद्ध समझाते हुए आखरी प्रयास के रूम में 5 गाँव की भीख मांगने गए थे, जिसका जवाब मिला की मांगने पर सुईं की नोक तक नहीं मिलेगी, तो उसके परिणाम की चेतावनी देते हुए सावधान किया तो उन्हें भिखारी कह कर बंधी बना लिया गया !

      एक शांति का उपदेश दोनों उपकरण में है,
      जिसे नहीं समझा गया, दोनों शांति और मानव कल्याण के लिए कदम उठे गे थे, तो आज कायर और बिखारी तथा विनाशी हो गए!
      दो परिवारों को समझाने में कई बार बेइज्जत हुए, फिर युद्ध को लम्बे समय तक ताले रखा जबकि दोनों पक्ष युद्ध ही चाहते थे, जिनके समझ में शांति की बात नहीं आती थी! एक तरफ कूआं तो दूसरी तरफ खाई, / मगर वो या तो कायरी या विनाशी कहे जाते है!
      6 hours ago · 

    • Sultan Meer गीता का उपदेश भगवान कृष्ण ने अर्जुन को ही क्यों दिया ?
      6 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Krishn ne arjun se kya galat kaha. Apradhi relativ ki hatya kya galat hai.
      6 hours ago via mobile · 

    • Sultan Meer ha bilkul galat hai.. krishan ko arjun ko samjhana chahiye tha ki arjun tum kanoon ko apne hanth me na lo...
      6 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Mr meer. Krishn ka lakshy tha kaurawo ka nash karna. Arjun hi sbse kabil yodha the..
      6 hours ago via mobile · 

    • Sultan Meer Issk ko ek bar padh lijiye

      सुल्तान का सवाल : कृष्ण जी हमेशा अर्जुन के चक्कर में क्यों रहते थे ? गीता का उपदेश भगवान कृष्ण ने अर्जुन को ही क्यों दिया ?

      जवाब :- देखिये कृष्ण एक चालाक, रसिक मिजाजी, धोखेबाज, झूठ बोलने वाले , चोरी करने वाले , गोपियों के साथ रासलीला करने वाले, धूर्त व्यक्ति थे, और उनकी सबसे बड़ी कमजोरी थी जवान गोपियाँ, पतनी रुकमनी के होते हुए भी उन्होंने राधा को अपने प्रेम जाल में फाँस रखा था, वो अक्सर नदी के किनारे चले जाते थे और वहा जाकर गोपियों को नहाते हुए देखते थे और उनके कपडे भी घाट पर से उठा कर अपने पास ले लेते थे गोपियाँ मजबूरी में अपना जिस्म उनको दिखाते हुए अपने कपडे उनसे लेती थी , जब कृष्ण को पता चला की द्रोपदी जैसी एक सुन्दर महिला को अर्जुन जैसे बेवक़ूफ़ युवक ने अपने पाँच भाइयों के लिए विवाह कर के ले आया है तो वो इस परिवार के साथ हो लिए और द्रोपदी के चक्कर में वो पांडवों के परिवार के प्रति अपनी सहनुभोती दिखाए, वो द्रोपदी को पाना चाहते थे इसके लिए वो उसके मेन पति अरुजुन की चमचागिरी करने लगे किन्तु आइन टाइम पर कौरवों ने उनका बना बनाया सारा खेल चोपट कर दिया हुआ यूँ की जब दुर्योधन भी द्रोपदी पर अकर्सित हो गया और जुए में पांडवों को हराने के साथ द्रोपदी को पा लिया और उसकी इज्ज़त को लूटना चाहा तब द्रोपदी ने क्रिशन से मदद मांगी क्रिशन अपनी प्रेमिका द्रोपदी की रछा के लिए तुरंत तैयार हो गये और द्रोपदी की साड़ी को खुलने ही नहीं दिए किन्तु उनको जोरदार झटका तब लगा जब भोली भाली द्रोपदी ने उनके इस काम से खुश होकर उनको अपना भाई बना लिया, अब वो क्या कर सकते थे वो करवों पर घुस्सा हो गये की इन्ही सालों की वजह से द्रोपदी हाँथ से निकल गयी और मै साला उसका भाई बन बैठा .. वो करवों को मारने के लिए अर्जुन को उल्टा सीधा पाठ पढ़ाने लगे जिसको गीता में लिखा गया , चमचागिरी की हद्द तो तब पार हो गयी जब वो अर्जुन के रथ का सारथी (ड्राईवर) तक बनने को तैयार हो गये, अंत में कृष्ण ने हस्ते खेलते कौरवों के परिवार को निस्तोनाबूद करवा डाला और महाभारत का युध्ह भी इन्ही की वजह से हुआ जिसमे कई लाख सैनिक मारे गये ..

      सुल्तान का फैसला :- द्रोपदी के चक्कर में क्रिशन अर्जुन की चमचागिरी करते थे ...
      6 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Aapki budhi ka ilaj pagal khane me hi ho sakta hai. Us time kanun kaun banata tha? Tumse bat karne se pahle hath me juta hona chahiye tb samjh me aayega. Tum isi k adhikari ho.
      6 hours ago via mobile ·  · 2

    • Satyendra Yadav Aapko krishn ki us waqt ki age dekhni chahiye tb bhaukna chahiye. 10 sal se kam thi.
      6 hours ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav 
      ‎@ sultaan ..... जिनका कहना था शांति ही मानव का कल्याण कर सकता है!
      जिन्होंने, भीम और अर्जुन तथा द्रोपदी की बात काटने हुए कहा की कोई भी मनुष्य पुरे मानव समाज से बड़ा नहीं हो सकता, द्रोपदी को कहा की उसका अपमान केवल उसका नहीं है पुरे हस्तिनाप
      ुर का पुरे औरत समाज का है वो इसे व्यक्तिगत न समजे
      जब द्रोपदी ने अपने खुले केश आगे किये और प्रश्न किया तो, श्री कृष्ण बदकते हुए बोले की आपकी जिद से कभी बड़ी मानव समाज कल्याण है
      भीम और अर्जुन्द की प्रतिज्ञा से ज्यादा बड़ी शांति का मार्ग है
      जब भी उनके यही शब्द थे के, युद्ध कोई विकल्प नहीं है, केवल आखिरी मार्ग है

      और जब युद्ध के भीच में अर्जुन के हाथ पव कांप गए तो उन्हें गीता का उपदेश दिया!
      6 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Mai chalange karta hu ki jise puri jankari ho wo bat kare.. Is bhaukne wale janwar k pas koi logics nhi.
      6 hours ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav 
      ‎... वो नरकासुर था, जिसका वध केवल उसकी माँ भूदेवी के सहयोग से ही संभव था, परन्तु वो तो पहले ही धरती लोक से उधृत हो चुकी थी, इसीलिए उसके आतंक से इन्द्र और स्वर्ग तथा भूगर्भ, भूलोक पर दशको तक आततायी आतंक था.....किसी राज्य, किस क्षत्रिय की हिम
      ्मत नहीं होती थी उसे रोकने की क्योकि वरदान के तहेत वो अजय था, उसने कुल मिला कर 16000 स्त्रियों का जबरन अपहरण किया, तथा सबके साथ सम्बन्ध रखा और तरह तरह की यातनाये देता था..... श्री कृष्ण और सत्यभामा (जो की भूदेवी का अंश थी) ने नरकासुर से युद्ध किया इसी युद्ध में नरकासुर का अति बलशाली सेनापति मुरा मारा गया जिसके वध के बाद श्री कृष्ण मुरारी के नाम से जाने जाते है जो कुछ लोग मुरली के सन्दर्भ में जानते है, .. मुरा के पुत्री इतनी बलशाली थी को वो आकाश की बिजली को बांध लेती थी, जिसे ठुन्देर्बोल्ड के नाम से वेस्ट जनता है, अतः नरकासुर मारा गया उस दिन को नरका चतुर्दशी (शायद दीपावली की पहली रात को होती है! ) के रूप में मनाया जाता है जो के इस अत्याचार और दशको के आतंक के खिलाफ यौध कर 16000 (अपतित कन्याये) + 100 (नरकासुर स्वीकृत कन्याए) को आज़ाद किया और युद्ध में मारे गए मुरा की पुत्री जिसका विवाह अभी तक नहीं हो पाया था, क्योकि उसका विवाह उसी से हो सकता था जो उसे युद्ध में हरा दे, उसने अपने को श्री कृष्ण के सामने समर्पित कर दिया और विवाह की इच्छा जाहिर की, परन्तु श्री कृष्ण ने कहा के वह उसे पुत्री के रूप में देखते है, परन्तु उसे ये कहा के एक पिता का कर्त्तव्य होता है की पुत्री के लिए यौग्य वर ढूंढे, और ये दाइत्व मै अवश्य निभओंगा और एक योग्य वर धुन्दुन्गा जो तुम्हे बुध्धि और बल में परास्त करे,(आगे चल कर घटोत्कच से विवाह संपन हुआ)
      इस तरह वो मुरा की पुत्री को अपनी पुत्री का दर्जा देते हुए उस राज्य का अधिकार दे देते है (असाम राज्य) और सभी कन्याओं को मुक्त कर देते है, अज़ाद की गयी 16100 कन्याओ जिसमे से अधिकतर कसी न किसी राज्य की राजकुमारिया थी तथा बाकी भूगर्भ, भूलोक और स्वर्ग लोग की सुन्दर कन्याये और अप्सर्ये थी ... उन्होंने जब प्रश्न उठाया
      6 hours ago · 

    • Manish Kumar Yadav 
      की वो समाज की कलंकित स्त्रियायाँ है जो की एक असुर की हवस और बहुबल की शिकार है,
      क्या समाज उन्हें स्वीकार करेगा ???
      ये जिल्लत की जिंदगी कैसे काट सकेंगी उस समाज में जो उन्हें नीच और अप्वित्रित समझेगा, स्त्रियों ने कहा की जो जिंदगी उन्हें श्री 
      कृष्ण दे रहे है उससे उचित होता की हमारा वध कर दें!

      तो ये एक गंभीर विषय था, जिसपर श्री कृष्ण ने कहा

      जो समाज स्त्री की रक्षा नहीं कर सकता उसे स्त्री के चरित्र पर संदेह करने का अधिकार नहीं है,
      अपराधी वो राज्य है, वो पिता वो भाई है वो समाज है, जिनकी कन्याये मेरे समक्ष खड़ी है! उस समाज को किसी स्त्री को अपतित करने का कोई अधिकार नहीं है जो उनकी अस्मित की रक्षा न कर सका हो,.... परन्तु जब एक स्त्री ने ये प्रश् उठाया के हमें मनुष्य तो क्या अब भगवान् की शरण भी नहीं मिलेगी, तब श्री कृष्ण ने उन्हें संसार में सम्मान दिलाने के लिए कहा, मै अपलोगो को स्वीकार करता हूँ आप लोगो का अधिकार मेरी हर वस्तु पर होगा परन्तु मेरे शारीर पर नहीं, कदाचित आप लोग मेरे अध्यातिम रूप को अवश्य पा सकेंगी, अपलोगो का भरण पोषण एक महारानी की तरह होगा, संसार आपको श्री कृष्ण की 16100 धर्मपत्नीयो के रूप में जानेगा,
      उन्होंने कहा ये कोई मेरा उपकार नहीं है, उपकार तो स्त्री समाज का है, आप स्त्रियों की ऋणी तो पूरा मानव समाज है, स्त्री कोई भोग, काम वस्तु नहीं, अपितु स्नेह और प्रेम और सम्मान की पत्र है, स्त्री ही ममता और शहशीलता की एकमात्र मिसाल है!
      ये एक महान सन्देश था!
      जिसे नहीं समझा गया, आज भी लोग, स्त्री को भोग की वस्तु ही समझते है, खुद तो इस काम वासना के शिकार है, परन्तु उपदेश सभी देते है (लेखक भी कामुक है, वाल चेक कजियेगा)

      परन्तु श्री कृष्ण के इस महान कार्य को ही आलोचना का आधार बना दिया गया है, मैंने जहा भी देखा इस प्रकरण को एक उपहास और धर्मविरुद्ध प्रचारक के रूप में ही देखा है, विडंबना ये है के में मंदिरों में नहीं जाता, बचपन से ही, परन्तु इसका ये मतलब नहीं की मैंने आँखे मूँद रखी है, सनातामं धर्म में कई रास्ते है मैंने भी केवल एक चुना है!

      परन्तु क्या कोई कृष्ण प्रचारक और कृष्ण विरोधी (किसी समय मै भी रहा हूँ) किसी एक वैश्या इस्त्री को अपनी धर्मपत्नी बनाने का साहस रखता है, कोई भी उच्च, सचरित्र क्रिशन भक्त क्या ये कार्य कर सकता है, क्या कोई शंकराचार्य अथवा ब्रह्मण इस तरह सोना गाछी अथवा जी. बी. रोड की वैश्यायो का उद्धार कर सकता है!

      मै खुद इतना साहस नहीं कर सकता जबकि मुझे मेरे शहर में ही एके दुक्के लोग जानते है! परन्तु श्री कृष्ण जी को तो पूरा भारतवर्ष जानता था!

      क्या कोई और है जो ये साहस कर सकता है ???

      क्या गीत लिखने वाले को ये मालूम था, की सोनागाची दुनिया की प्रसिद्ध वैश्यालय है जो पिछले २०० सालो में पनपी और चहुमुख गुणांक रूप से बढ़ रही है!

      तो मेरे जवाब है! आप भी आगे आगिए श्री कृष्ण जी की तरह 16100 धर्पन्तिया बना लीजये, कोलकत्ता जाए और वरमाला डालिए !
      2 hours ago · Edited · 

    • Satyendra Yadav Hahahahahahaha. Sultan kaurav ko naitik bata kar apna ghatiyapan sabit kar diya aapne.
      6 hours ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Koi logic nhi hai mr sultan aapke pas. Aap apna ilaj karwaye kisi pagal khane me..
      6 hours ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Manish ji. Ise samjhane ka koi fayda nhi. Ye bhaukna janta hai aur kuch nhi.
      6 hours ago via mobile ·  · 1

    • Manish Kumar Yadav ‎@Satyendra ji ...maine to socha tha ki jinko bibiya chahiye wo aage aa jayenge aur hum sab log baraati bak kar sona gachhi pahuchenge .... :)
      6 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Madhur ji. Aapke geet gane wale muh par jordar tamacha jada hai manish ne.. Agr hai to jbab dijiye..
      6 hours ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav Satyendra ji aisa hargiz nahi hai ... mujhe dhuk hua tha ... aur agar yaha maujood logo ko aitraaj na ho to mai Sultaan ji se kuch kehna chahunga .....
      6 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Ye sab hijde hai. Tali bajana jante hai. Gali bakna jante hai mahapurusho ko. Aur kuch nhi.. . Inse apni bahno ki ijjat to bachegi nhi. Söna gachhi ki mahilao ko kya bachayenge.
      6 hours ago via mobile ·  · 1

    • Manish Kumar Yadav ‎@Satyendra ji ... katthor shabdo ka istemaal na kijiye, mera niwedan hai, kuch log mere sammanit hai bade bhai ki tarah,
      6 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Sultan ji. Pahle apni bahano ka khatna rukwao tb ham nari hit par bat karenge aapse. Kitne log jante hai ki muslims me avi v fml ka khtana hota hai kuch desho me? Mr madhur aur unki nayikaye us par kyo nhi bolti?
      5 hours ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Mai gali nhi de rha hu inhe inki aukat bata rha hu.. Ye isi layak hai.
      5 hours ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav 
      सुलतान से एक सीधा सा सवाल

      श्री कृष्ण जी को आज अपने उठाते ही गलियाँ देनी शुरू कर दी है, आप काफी निष्पक्ष विश्लेषण कर लेते है ! .. एसी ही निष्पक्ष विश्लेषण आप मोम्मद सव के जीवन पर भी कीजिये, इस्लाम पर कीजिये जीने दुनिया को नरक बना कर रख दिय
      ा, आप जो सोचते है, उसी सोच के साथ अपनी तरफ से ये प्रयत्न कीजिये, मोहम्मद नबी जो दुनिया की पहले थे जो गह्ज्व-वे-हिंद का आतंकी नारा देकर मर गए, और जिन्होंने सबसे पहले किसिस धार्मिक स्थल को ध्वस्त किया हो, जिसने ६ साल की बच्ची से विवाह और ९ साल में सम्भोग किया हो जबकि खुद ६२ साल के थे!
      अब ये समझा जा सकता है की ये हवास जो बुदापे में ऐसी थी तो जवानी में जबरन क्या करती होगी इस पैर उनकी बीबियो ने कुछ किताबे लिखी है, जिसमे कई कहानिया थी, जिसे जला दिया गया!
      जिसने अपनी दासी से सम्बोग करने पर पकडे जाने पर अपनी सभी बीबियो को एक महीने तक के लिए दंद दिया हो, जिसने अपनी पुत्रवादु को नग्न देख कर बहक गया हो, जिसके बाद उसके पुत्र (मने हुए ) ने मोहम्मद को सौप दिया हो, तो के अपनी बीवी उनकी माँ नहीं हो जाती है

      अब एक तरफ मोहम्मद अपनी बेटी (बहु ) का हन्ता, भोगी हो गया, तथा दूसरी तरफ उसके पुत्र उसका अपनी माँ का हन्ता हो गया, बाद में इसी तरह का कुछ इस्लामिक कानून बना !
      5 hours ago ·  · 2

    • Satyendra Yadav Ye log pahli bar fml ka khatna word suna hoga aj. Kyo sultan! Galat kaha maine?
      5 hours ago via mobile · 

    • Amarnath Madhur Malhotra Sanjeev जब भारत में जन्माष्टमी पर दही हांडी कार्यक्रम की मुख्य अतिथि पॉर्न स्टार सनी लियोन को बनाया जा रहा हो...तो आप समझ सकते हैं कि देश का भविष्य क्या है..
      2 hours ago ·  · 1

    • Manish Kumar Yadav aapne shayad mera lekh nahi pada, mai ise wall par daal deta hun ....... uske baad aap ye sunny leon per phir se sochiyega .....
      2 hours ago · 

    • Satyendra Yadav Madhur ji ye dongiyo ka dosh hai krishn ka nhi.
      2 hours ago via mobile ·  · 2

    • Manish Kumar Yadav shri krishna 16100 ko ghar me panah de sakte the, to ye bhdra samajh ek ko kyo sudharne ka mauka nahi de sakta, use kyo swikaar nahi kar sakta .... mere lekh ka abhi tak uttar nahi mila hai
      2 hours ago · 

    • Neer Gautam bhaiya abhi ek movie aayi hai jiska naam hai " Gangs of vasseypur" usme Manoj wajpayi ne jab doosri bibi ko pregnant kiya toh unki biwi ne ladte hua kaha "E ka Hai " iska jawab manoj wajapayi ne diya "E toh hmra PYar hai" ab Amarnath Madhur bhaiya aap samajh hi gye honge ki Ye AAdmi ki Fitrat hai isme kisi ka DOsh nahi hai .......
      about an hour ago ·  · 1

    • Satyendra Yadav Manish ji. "Modern" nam k dhongi sirf pralap karna jante hain.. Bina kisi base k mahapurusho ko gali dena jante hai. Inke pas jbab nhi milega.
      about an hour ago via mobile · 

    • Neer Gautam satyendra bhaiya Apne Kon se Brand ka joota Dikha diya Jo Meer sahab Mr. India ho gaye............ ha ha ha :D

    • Satyendra Yadav Wo usi ke kabil hai bhai neer.. Aj pahli bar is kahawat ka prayog kiya hai maine.. Aur ek dam fit hai mr meer par
      about an hour ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav ‎@ satyendra ji .. Ye Ek sawaal tha Nastik ki or se,.. jiske jawaab ka mai abhilaashi hoon .......
      about an hour ago · Edited · 

    • Amarnath Madhur Satyendra Yadav jee jyada khush mat hoyiye.sawalon ka jabab jute se nheen diya jata hai.or sawaal ka jabab sawal bhee nheen hota hai.meer jin shabdon men kha jana chahiye tha mainne kah diya.kya kisee aur ko bolane nheen doge?

    • Satyendra Yadav Ye nastik maha dhongi hai. Ye muslm k khilaf nhi bolte. Christian k khilaf nhi bolte aur baudh k khilaf nhi bolte. Jb ye dharm doglepan k bhandar hai
      about an hour ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav 
      नोट: मै सभी धर्मो का समान आदर करता हूँ, परन्तु मै भी अपने धर्म के प्रति वैसा ही आचरण चाहता हूँ, मुझे अल्लाह को पूजने में कोई परेशानी नहीं है, परन्तु मै एक इस्वर के लिए सैकड़ो को नहीं छोड़ सकता आप ही है जो कहते है की तुम्हारा धर्म ढोंग है, प
      रन्तु मेरे नज़र में तो सब कुछ भ्रम है और हमारे अन्दर ही परब्रह्म है!
      मेरा और आपका देश एक समुन्दर है यहाँ नदिया आ कर समां जाती है, सिर्फ ७५ साल में अरब, इरान, इराक, सीरिया एक पूर्ण मुस्लिम देश हो गया सिर्फ २०० साल में इस्लाम ने दुनिया फ़तेह कर ली वो भटके होंगे परन्तु भारत नहीं, यहाँ प्रन्चिनतम सनातन विधमान है, आपने मंदिर तोड़े, वैद-पुराण और उपनिषद फूंक दिए, परन्तु ८४% को नहीं बदल सके, आप रोज कुर्रान पड़ते है हमने आज तक वैद-पुराण को हाथ नहीं लगाया, फिर भी हमारा दजूद है,
      एक विशाल समुन्द्र है, हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई, तथा उसी रूप में सनातन, इस्लाम, सिखिस्म, बुधिस्म, च्रिस्तिने, सभी इस भारत रूपी समुन्द्र के मोती है
      तो इन्हें इकठ्ठा करके एक अद्ब्भुत माला बनाना ही मेरा कर्त्तव्य है! इसी में धर्म की जीत है,
      अंतिम मेरा ज्ञान बहुत कम है, कुरान एक अद्बुत पुस्तक है जिसपर लोगो का विश्वास है और मै इस विश्वास का सम्मान करता हूँ ! एक भारतीय होने के नाते मै आज की पोस्ट के लिए क्षमा चाहूँगा!

    • Amarnath Madhur Satyendra Yadav jee tum apna ghr dekho fir dusre pr patthar fenkana.

    • Manish Kumar Yadav mai kehta hoon ki dono ghar mere apne hai, mandir ya masjid, hume pathhar nahi marna chahiye ..... Agar dekha jaaye to Dharm hi sabi vivaado ki jad hai, kyoki dharm ke anusaar koi nahi chalta parantu sabhi ek dusre ko atiuchch koti ka maante hai ....
      about an hour ago ·  · 1

    • Satyendra Yadav Madhur ji. Shathe shathyam samacharet ki niti v hamari hi hai.. Jo jisse samjhega samjhayenge. Jin words ka use wo kar rha tha. Use juta hi milna chahiye tha.. Aap khud bhramit hai.. Aap khud logics ki bajay pralap me bishwas karne lage hai. Har sawal ka jbab maujud hain cment me.
      about an hour ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Ham bakhubi apna ghar sambhal rhe hain. Aap hamari chinta na kare.
      about an hour ago via mobile · 

    • Amarnath Madhur मैं ये देख रहा हूँ दो तीन लोगों के अलावा और कोई इस चर्चा में शामिल नहीं है. और सब अपने पक्ष पर मजबूती से जमे हैं जिससे तर्कों का सिर्फ दोहराव हो रहा है . मुझे लगता है इस चर्चा को आगे बढ़ने का कोई मतलब नहीं है. साथियों अगर आप सहमत हो तो इस वार्ता को यहीं विराम दे दें.

    • Manish Kumar Yadav 
      क्षमा कीजियेगा मधुर जी, इस तरह से उचित नहीं होगा, दिल दिमाग और विश्वास को डगमगाकर इस तरह नहीं छोड़ा जा सकता, या तो आप मानिये की आज इस सन्दर्भ में गलती महसूस कर रहे है, अथवा आपका अहम् आड़े आ रहा हो तो मै हठ नहीं करूंगा, क्योकि आपके कमेंट्स मु
      झे हमेशा अछि सुचना देते रहे है और प्रभावित करते रहे है, जिनके कारन मै आपको बड़े भाई जैसा सम्मान देता रहा हूँ! अगर अहम् आड़े नहीं है तो मानना होगा की श्री कृष्ण जैसे उद्धारक, प्रेम प्रचारक और धर्म के पक्षी कोई नहीं है,

    • Satyendra Yadav Mr. Aapke sawal me dohraw hoga to jbab me dohraw hoga hi. Saty ek hi hota hai. Apne sawal thik karo. Jbab thik milenge.aap bhagenge ham nhi.
      about an hour ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav अन्यथा आप सिद्ध कीजिय,

    • Manish Kumar Yadav is swaal ko mai wall per rakhne jaa raha hoon, taaki jyada pakshi vipakshi aa jaye .......

    • Satyendra Yadav Us meer nam k janwar aur aapke sawal me koi fark nhi tha. Mere jbab v same hi honge.
      58 minutes ago via mobile · 

    • Amarnath Madhur 
      मनीष भाई जानते हैं की मैं भगोड़ा नहीं हूँ. लेकिन मेरी दिक्कत ये है कि आप जैसे दोस्तों से उस भाषा में बात नहीं कहना सुनना चाहता जिस भाषा में आप सुलतान मीर से कर रहें हैं. आप कहते हैं दोनों घर अपने हैं तो क्या उसके नहीं है ?क्या श्री कृष्ण उ
      सके पूर्वज नहीं हैं ? अगर वो इस चर्चा में शामिल हो गया तो आपको उससे अभद्र भाषा में बोलने की क्या जरूरत पड़ गयी .रही श्री कृष्ण की बात तो ऐसा क्या कहा गया है जो पहले से हमारे ग्रंथों में मोजूद नहीं है. फिर भी अगर आपकी भावनाओं को ठेस पहुँचती है तो अपने अच्छे साथी होने के नाते मैं आपसे क्षमा मांगता हूँ. मेरा इरादा कतई आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं रहता है. उम्मीद है आप भी मिस्टर वाली भाषा मेरे लिए प्रयोग नहीं करेंगें और इस साझा अभियान को बनाए रखेंगें.
      48 minutes ago · 

    • Manish Kumar Yadav 
      मधुर जी, मै आपके क्षमा का अभिलाषी नहीं हूँ, क्योकि मै आपसे छोटा हूँ और छोटा ही रहना चाहूँगा, आप उस उपलक्ष में गलती स्वीकारिये, या मुझे उस धार्मिक पुस्तक का साभार दीजिये जो ये सिद्ध इन्हें अधमी सिध्ह करे! मुझे सच जान कर ख़ुशी होगी!
      मेरा पास
       मेरा आचरण है, और मेरा दिमाग और हृदय है, अगर दिमाग सही है और ह्रदय में प्रेम है तो सब ठीक है, परन्तु मेरा दिमाग जब छुट गया और ह्रदय टूट गया तो मेरे विवेक भी चला जाता है, सहनशीलता सद्पुरुशो में होती है जिकने पास वैद और कुरआन का ज्ञान हो, मै नास्तिक हूँ, मै धर्म के मार्ग पर भी नहीं, मैंने वैद का ज्ञान भी नहीं लिया, तो इस तरह भटक जाना तय है,
      मैंने अपने अगले लेख में क्षमा मांगी है! जबकि मीर साहब ने एक पोस्ट दिया था या तो आपने पड़ा नहीं या आपको उनकी अभद्रता का खेद नहीं! ....
      33 minutes ago · 

    • Satyendra Yadav Madhur ji. Aap batayen ki meri dwara ek samany byakti k liye uski bahut badi galati par kathor shabd use karne par aapke pet me dard ho rha hai.. Aapne aur meer ne caroro logo ki astha aur biswas k prateek ko "dhoort" jaise shabd se nawaja. Aur ham chup rhe? Ye nyay hai? Aapki tuchchh mansikta ka praman hai ye.
      32 minutes ago via mobile · 

    • Satyendra Yadav Agr use aabhash hota ki wo jise gali de rha hai. Wo uske v "baap" hai to wo aisa katayi na karta.. Iske bawjud hamne har sawal ka logical jbab diya. Ha kuch hard word jarur use kiya maine. Bt logic puri tarah saty aur sabhy hai.
      28 minutes ago via mobile · 

    • Manish Kumar Yadav 
      मधुर जी, क्या ये सीधे सीधे एक गाली नहीं है, आपको बता कर ख़ुशी होगी के मैंने काफी बड़ा लेख लिखा था सुलतान मेरे के लिए, जो पोस्ट नहीं किया, अपने मुसलमान भाइयो की सोच कर, और एक भारतीय होने के नाते,.....................
.........................
..........................
........ क्या मीर जी ने सोचा की जिन्हें इनका धर्म नबी मानता है उसी श्री कृष्ण को गाली दे रहे है, और जब ५ समय के नवाजी और मंदिर घंटे बजाने वाली इस तरह का लेख लिख सकते है तो, मेरे जैसा नास्तिक क्यों नहीं, मेरी उम्र २३ पिछले १० साल से किसी मंदिर के दर्शन नहीं किया तो मुज से कैसी आशा रखनि चाहिए ! आप लेख पदिये मीर जी का, शायद अपने पड़ा न हो

सुल्तान का सवाल : कृष्ण जी हमेशा अर्जुन के चक्कर में क्यों रहते थे ? गीता का उपदेश भगवान कृष्ण ने अर्जुन को ही क्यों दिया ?

जवाब :- देखिये कृष्ण एक चालाक, रसिक मिजाजी, धोखेबाज, झूठ बोलने वाले , चोरी करने वाले ,
गोपियों के साथ रासलीला करने वाले, धूर्त व्यक्ति थे, और उनकी सबसे बड़ी कमजोरी थी जवान गोपियाँ, पतनी रुकमनी के होते हुए भी उन्होंने राधा को अपने प्रेम जाल में फाँस रखा था, वो अक्सर नदी के किनारे चले जाते थे और वहा जाकर गोपियों को नहाते हुए देखते थे और उनके कपडे भी घाट पर से उठा कर अपने पास ले लेते थे गोपियाँ मजबूरी में अपना जिस्म उनको दिखाते हुए अपने कपडे उनसे लेती थी , जब कृष्ण को पता चला की द्रोपदी जैसी एक सुन्दर महिला को अर्जुन जैसे बेवक़ूफ़ युवक ने अपने पाँच भाइयों के लिए विवाह कर के ले आया है तो वो इस परिवार के साथ हो लिए और द्रोपदी के चक्कर में वो पांडवों के परिवार के प्रति अपनी सहनुभोती दिखाए, वो द्रोपदी को पाना चाहते थे इसके लिए वो उसके मेन पति अरुजुन की चमचागिरी करने लगे किन्तु आइन टाइम पर कौरवों ने उनका बना बनाया सारा खेल चोपट कर दिया हुआ यूँ की जब दुर्योधन भी द्रोपदी पर अकर्सित हो गया और जुए में पांडवों को हराने के साथ द्रोपदी को पा लिया और उसकी इज्ज़त को लूटना चाहा तब द्रोपदी ने क्रिशन से मदद मांगी क्रिशन अपनी प्रेमिका द्रोपदी की रछा के लिए तुरंत तैयार हो गये और द्रोपदी की साड़ी को खुलने ही नहीं दिए किन्तु उनको जोरदार झटका तब लगा जब भोली भाली द्रोपदी ने उनके इस काम से खुश होकर उनको अपना भाई बना लिया, अब वो क्या कर सकते थे वो करवों पर घुस्सा हो गये की इन्ही सालों की वजह से द्रोपदी हाँथ से निकल गयी और मै साला उसका भाई बन बैठा .. वो करवों को मारने के लिए अर्जुन को उल्टा सीधा पाठ पढ़ाने लगे जिसको गीता में लिखा गया , चमचागिरी की हद्द तो तब पार हो गयी जब वो अर्जुन के रथ का सारथी (ड्राईवर) तक बनने को तैयार हो गये, अंत में कृष्ण ने हस्ते खेलते कौरवों के परिवार को निस्तोनाबूद करवा डाला और महाभारत का युध्ह भी इन्ही की वजह से हुआ जिसमे कई लाख सैनिक मारे गये ..

सुल्तान का फैसला :- द्रोपदी के चक्कर में क्रिशन अर्जुन की चमचागिरी करते थे ...
25 minutes ago · Edited · 


  • Satyendra Yadav Aapke mafi mangne k bad hame bolne ki koi jarurat nhi. Dhanywad galati swikar karne k liye.
    19 minutes ago via mobile · 


  • Satyendra Yadav Manish ji ye meer wale post delet kar do jo aapne copy paste kiye hai.
    17 minutes ago via mobile · 




  • Tukaram Verma 
    कृष्ण के सन्दर्भ में फैली भ्रांतियों को अब तजने का समय आ गया है:-
    १-बाल कृष्ण ने माखन चुराकर नहीं खाया, अपने ग्वाल-वालों के साथ बाँटकर खाया|
    २.ग्वाल-वाल गाय-भैस चराया करते थे अतः दूध दही मक्खन पर पहले अधिकार इन्हीं का था कृष्ण के इस विचार स
    े मथुरा के धनियों को बिना परिश्रम धनबल पर मिलने वाले दूध उत्पादनों पर अंकुश लगता दिखाई दिया तो उनके समर्थक तत्कालीन लेखकों ने कृष्ण के विरोध में असत्य आरोप लगाने प्रारम्भ किये जो कालांतर में जनश्रुति के रूप में प्रचलित हो गये|यह सब आरोप निराधार हैं|
    ३.कृष्ण ने कंस बध के बाद जीती हुई सत्ता को उसके मान्य उत्तराधिकारी को सौंप कर न्याय का अभूतपूर्व उदाहरण प्रस्तुत किया|
    ४. महाभारत में कृष्ण की भूमिका कुशल राजनीतिज्ञ के रूप में न्याय के साथ रही|
    ५.कृष्ण ने समाज में प्यार और सहकार का वातावरण बनाने का हर संभव प्रयास किया|
    ६, कृष्ण ने समाज में गैर बराबरी के व्यवहार की जगह समानता के सिद्धांत को तत्कालीन परिस्थितियों के अनुकूल व्यवहारिक स्वरूप दिया|
    ७.कृष्ण धार्मिक अन्धविश्वास की जगह आध्यात्मिक उपदेश दिये|
    15 minutes ago ·  · 1


  • Amarnath Madhur 
    मनीष भाई अभी आपका कमेन्ट पूरा खुल नहीं प् रहा है और मैं पूरा देख भाल कर ही जबाब देना चाहता हूँ . वैसे इस मामलें में मुझे कहना नहीं चाहिए आपके ........... को ठेस पहुँची है. वरना न तो इस पोस्ट का चित्र नया है न कोई बात नहीं है. बाकी इस पर जो 
    कुछ वार्तालाप हुआ है वो इसकी मूल भावना से हटाकर है मैं ये बात पहले भी कह चूका हूँ लेकिन अगर आप जिद पकडे हैं तो मैं क्या कह सकता हूँ ? अच्छा मेरे स्वभाव को देखते हुए ये बतायेंगें कि आप अब मुझसे क्या उम्मीद करते हैं ?
    13 minutes ago · 


  • Satyendra Yadav Sirf is liye ki wo pahle v 2 bar post hai. Aur jo v padhega uska time waist hoga ise 3 bar padhne me
    11 minutes ago via mobile · 


  • Tukaram Verma 
    Maneesh Kumar Yadav jee.Satyendra Yadav jee सहस्रों वर्ष व्यतीत हो जाने बाद क्या आज तक कभी आप लोगों ने कृष्ण के ऊपर कृष्ण विरोधियों के द्वारा लगाये गये आरोप और अश्लील साहित्य का विरोध किया, क्यों नहीं किया अपने आप विचार कीजिये |तीन चार बार 
    कृष्ण समर्थकों की यू.पी.बिहार में सरकार बनी कभी इन आरोपों से मुक्त होने के लिए क्या समाज को जागरूक किया|जिन साहित्यकारों को इन सरकारों ने राष्ट्रीय स्तर पर समानित किया क्या उनकी सोच कृष्ण को प्रचलित विचारों के अनुकूल मानने की प्रवृत्ति नहीं रहीं |
    7 minutes ago · 






  • 4 टिप्‍पणियां:

    1. Amarnath Madhur ‎Satyendra Yadav jee tum apna ghr dekho fir dusre pr patthar fenkana.
      34 minutes ago · Like

      Manish Kumar Yadav mai kehta hoon ki dono ghar mere apne hai, mandir ya masjid, hume pathhar nahi marna chahiye ..... Agar dekha jaaye to Dharm hi sabi vivaado ki jad hai, kyoki dharm ke anusaar koi nahi chalta parantu sabhi ek dusre ko atiuchch koti ka maante hai ....
      31 minutes ago · Unlike · 1

      Satyendra Yadav Madhur ji. Shathe shathyam samacharet ki niti v hamari hi hai.. Jo jisse samjhega samjhayenge. Jin words ka use wo kar rha tha. Use juta hi milna chahiye tha.. Aap khud bhramit hai.. Aap khud logics ki bajay pralap me bishwas karne lage hai. Har sawal ka jbab maujud hain cment me.
      29 minutes ago via mobile · Like

      Satyendra Yadav Ham bakhubi apna ghar sambhal rhe hain. Aap hamari chinta na kare.
      28 minutes ago via mobile · Like

      Amarnath Madhur मैं ये देख रहा हूँ दो तीन लोगों के अलावा और कोई इस चर्चा में शामिल नहीं है. और सब अपने पक्ष पर मजबूती से जमे हैं जिससे तर्कों का सिर्फ दोहराव हो रहा है . मुझे लगता है इस चर्चा को आगे बढ़ने का कोई मतलब नहीं है. साथियों अगर आप सहमत हो तो इस वार्ता को यहीं विराम दे दें.
      27 minutes ago · Like

      Manish Kumar Yadav क्षमा कीजियेगा मधुर जी, इस तरह से उचित नहीं होगा, दिल दिमाग और विश्वास को डगमगाकर इस तरह नहीं छोड़ा जा सकता, या तो आप मानिये की आज इस सन्दर्भ में गलती महसूस कर रहे है, अथवा आपका अहम् आड़े आ रहा हो तो मै हठ नहीं करूंगा, क्योकि आपके कमेंट्स मुझे हमेशा अछि सुचना देते रहे है और प्रभावित करते रहे है, जिनके कारन मै आपको बड़े भाई जैसा सम्मान देता रहा हूँ! अगर अहम् आड़े नहीं है तो मानना होगा की श्री कृष्ण जैसे उद्धारक, प्रेम प्रचारक और धर्म के पक्षी कोई नहीं है,
      18 minutes ago · Like

      Satyendra Yadav Mr. Aapke sawal me dohraw hoga to jbab me dohraw hoga hi. Saty ek hi hota hai. Apne sawal thik karo. Jbab thik milenge.aap bhagenge ham nhi.
      16 minutes ago · Like

      Amarnath Madhur मनीष भाई जानते हैं की मैं भगोड़ा नहीं हूँ. लेकिन मेरी दिक्कत ये है कि आप जैसे दोस्तों से उस भाषा में बात नहीं कहना सुनना चाहता जिस भाषा में आप सुलतान मीर से कर रहें हैं. आप कहते हैं दोनों घर अपने हैं तो क्या उसके नहीं है ?क्या श्री कृष्ण उसके पूर्वज नहीं हैं ? अगर वो इस चर्चा में शामिल हो गया तो आपको उससे अभद्र भाषा में बोलने की क्या जरूरत पड़ गयी .रही श्री कृष्ण की बात तो ऐसा क्या कहा गया है जो पहले से हमारे ग्रंथों में मोजूद नहीं है. फिर भी अगर आपकी भावनाओं को ठेस पहुँचती है तो अपने अच्छे साथी होने के नाते मैं आपसे क्षमा मांगता हूँ. मेरा इरादा कतई आपकी भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं रहता है. उम्मीद है आप भी मिस्टर वाली भाषा मेरे लिए प्रयोग नहीं करेंगें और इस साझा अभियान को बनाए रखेंगें.
      about a minute ago · Like

      उत्तर देंहटाएं
    2. गौरव पाण्डेय को कहि सकेन बड़ेन को लखै बड़ीयै भूल।
      दीने दई गुलाब ने इन डारन वे फूल॥

      आप ने जो कृष्ण चरित्र लिखा है वह बिलकुल ठीक है लेकिन उनके सम्पूर्ण व्याक्तित्व के सम्मुख यह अत्यल्प है। आपके साहस की प्रशँसा करता हूँ किन्तु एक साहित्यिक लेखक को यह नही लिखना चाहिए क्योकि समाज उससे प्रेरणा लेता है। लेखक को चाहिए कि ऐसी उक्तियाँ यदि समाज मेँ है और जो विकृत विचार की पोषक है तो उसे दूर करने का प्रयास करना चाहिए न की वाह वाही लूटने के लिए या चमत्कृत करने के लिए और मसाला (कायर सियार) लगाकर प्रस्तुत करे।

      happy janmastmi
      10 hours ago via mobile · Like

      गौरव पाण्डेय अगर आप यह मान ले की इस गीत को ब्रज की गोपिया समूह मेँ गा रही है तो यह कृष्ण के प्रति उलाहना और अनन्य प्रेम का उत्कृष्ट सफल लोकगीत कहा जा सकता है।
      10 hours ago via mobile · Like · 1

      Balbir Rana गोपियों के समूह में गाने से तो ठीक पर और कोई खोज है तो आपकी ...... लिखूंगा नहीं
      9 hours ago · Like

      Chandrashekhar Tapi krishna ka jivan charitra samjhna bhagya ki baat hai unake har lila me logo ka uddhar aur bhagvat nam ki prernaa thi unhone logo ko jo da hai samjh sako to
      about an hour ago · Like

      गौरव पाण्डेय बलबीर जी यदि आप मेरे कमेँट से असंतुष्ट है तो स्पष्ट कहे

      मैने इस कविता की प्रशंसा लोकगीत के रूप मेँ की है
      यदि आप गाँव से जुड़े होगेँ कभी तो आप जानते होगे
      इसमेँ उस दृष्टि से सुन्दरता खोजी जा सकती है
      57 minutes ago via mobile · Lik

      उत्तर देंहटाएं
    3. अरे!अक्ल के बन्दरो,अरे! धर्म के धुर-धरो।
      ओ-समाज के ठेकेदारों बुद्धि जीवियो के लम्बरदारो।
      पकड हरा कभी भगवा,बनते हो कोम के अगवा।
      शरीर से हट्टे कट्टो ,अरे उल्लु के पट्ठों।
      सिर को तनिक नहीं नोचते,नालायको कुछ नहीं सोचते।।
      गांव की भाषा मे उतिया ,बेवकूफो -बिल्कुल चुतिया।
      तुम्हारी मा की •••••• अात्मा को शान्ति मिले जो कि नामुमकिन है।
      अाज देश विषम परिस्थितियों के दौर से गुजर रहा है। अाप सब्जी लेने जाओ ओेर पता नहीं कब बम ब्लास्ट मे मारे जाओ। घर की बेटी पढ़ने जाये और पता नहीं कब दरिन्दो की हवश का शिकार बन जाए? पढा लिखा नौजवान बेरोजगारी से तग अाकर अात्म-हत्या करे या अपराधी बने ? जब कर्ज़ के बोझ मे डुबा अन्न -दाता किसान आत्म-हत्या करे तो एक सवेदन शिल व्यक्ति को रोना अा जाता है। ओर अाप लोग हैं कि पौराणिक धर्मपात्रो के विश्लेषण मे उलझे हुए एक-दूसरे को गाली-गलौज कर रहे हैं। कन्धे से कन्धा मिलाकर जन समस्याओं से लडने ओर जनता को जागरूक करने के बजाय अमीरो ओर उनके द्वारा पोषित सत्ताधारियों के कु चक्रो को समझ नहीं रहे

      उत्तर देंहटाएं
    4. पैगम्बर मुहम्मद के चाचा शिव भक्त थे,,,जिनका नाम अबू बकर था। और उसी ने एक किताब अल ओकुल में शिव भक्ति में ये कविता लिखी जो आज भी मौजूद है वहां के एक पत्थर पर
      हर हर महादेव

      उस युग में अरब एक बड़ा व्यापारिक केन्द्र रहा था, इसी कारण देवों, दानवों और दैत्यों में इलावर्त के विभाजन को लेकर 12 बार युद्ध ‘देवासुर संग्राम’ हुए। देवताओं के राजा इन्द्र ने अपनी पुत्री ज्यन्ती का विवाह शुक्र के साथ इसी विचार से किया था कि शुक्र उनके (देवों के) पक्षधर बन जायें, किन्तु शुक्र दैत्यों के ही गुरू बने रहे। यहाँ तक कि जब दैत्यराज बलि ने शुक्राचार्य का कहना न माना, तो वे उसे त्याग कर अपने पौत्र और्व के पास अरब में आ गये और वहाँ 10 वर्ष रहे। साइक्स ने अपने इतिहास ग्रन्थ “हिस्ट्री ऑफ पर्शिया” में लिखा है कि ‘शुक्राचार्य लिव्ड टेन इयर्स इन अरब’। अरब में शुक्राचार्य का इतना मान-सम्मान हुआ कि आज जिसे ‘काबा’ कहते है, वह वस्तुतः ‘काव्य शुक्र’ (शुक्राचार्य) के सम्मान में निर्मित उनके आराध्य भगवान शिव का ही मन्दिर है। कालांतर में ‘काव्य’ नाम विकृत होकर ‘काबा’ प्रचलित हुआ। अरबी भाषा में ‘शुक्र’ का अर्थ ‘बड़ा’ अर्थात ‘जुम्मा’ इसी कारण किया गया और इसी से ‘जुम्मा’ (शुक्रवार) को मुसलमान पवित्र दिन मानते है।

      “बृहस्पति देवानां पुरोहित आसीत्, उशना काव्योऽसुराणाम्”-जैमिनिय ब्रा.(01-125)

      अर्थात बृहस्पति देवों के पुरोहित थे और उशना काव्य (शुक्राचार्य) असुरों के।

      प्राचीन अरबी काव्य संग्रह गंथ ‘सेअरूल-ओकुल’ के 257वें पृष्ठ पर हजरत मोहम्मद से 2300 वर्ष पूर्व एवं ईसा मसीह से 1800 वर्ष पूर्व पैदा हुए लबी-बिन-ए-अरव्तब-बिन-ए-तुरफा ने अपनी सुप्रसिद्ध कविता में भारत भूमि एवं वेदों को जो सम्मान दिया है, वह इस प्रकार है-

      “अया मुबारेकल अरज मुशैये नोंहा मिनार हिंदे।

      व अरादकल्लाह मज्जोनज्जे जिकरतुन।1।

      वह लवज्जलीयतुन ऐनाने सहबी अरवे अतुन जिकरा।

      वहाजेही योनज्जेलुर्ररसूल मिनल हिंदतुन।2।

      यकूलूनल्लाहः या अहलल अरज आलमीन फुल्लहुम।

      फत्तेबेऊ जिकरतुल वेद हुक्कुन मालन योनज्वेलतुन।3।

      वहोबा आलमुस्साम वल यजुरमिनल्लाहे तनजीलन।

      फऐ नोमा या अरवीयो मुत्तवअन योवसीरीयोनजातुन।4।

      जइसनैन हुमारिक अतर नासेहीन का-अ-खुबातुन।

      व असनात अलाऊढ़न व होवा मश-ए-रतुन।5।”

      अर्थात- (1) हे भारत की पुण्यभूमि (मिनार हिंदे) तू धन्य है, क्योंकि ईश्वर ने अपने ज्ञान के लिए तुझको चुना। (2) वह ईश्वर का ज्ञान प्रकाश, जो चार प्रकाश स्तम्भों के सदृश्य सम्पूर्ण जगत् को प्रकाशित करता है, यह भारतवर्ष (हिंद तुन) में ऋषियों द्वारा चार रूप में प्रकट हुआ। (3) और परमात्मा समस्त संसार के मनुष्यों को आज्ञा देता है कि वेद, जो मेरे ज्ञान है, इनके अनुसार आचरण करो। (4) वह ज्ञान के भण्डार साम और यजुर है, जो ईश्वर ने प्रदान किये। इसलिए, हे मेरे भाइयों! इनको मानो, क्योंकि ये हमें मोक्ष का मार्ग बताते है। (5) और दो उनमें से रिक्, अतर (ऋग्वेद, अथर्ववेद) जो हमें भ्रातृत्व की शिक्षा देते है, और जो इनकी शरण में आ गया, वह कभी अन्धकार को प्राप्त नहीं होता।

      उत्तर देंहटाएं