रविवार, 15 जून 2014

पितृदिवस पर 'उन्हें मैं प्यार करता हूँ'


       
कभी लिखी नहीं मैंने कोई कविता पिताजी पर
कभी माँ के लिए मैंने न कोई गीत गाया है
कभी खुलकर किया मैंने नहीं है प्यार बेटी को
न बेटे की सफलता पर मेरी गर्दन कभी ऐंठी
मेरी बहिनें समझने में मुझे नाकाम रहती  हैं
मेरे भाई खफा हैं मैं कभी कुछ काम न आया  
मेरी पत्नी मेरी चुप्पी से हो जाती परेशां है
पड़ौसी सब मुझे खुदगर्ज और दंभी समझते हैं
मगर मैं हूँ कि सबको दिल ही दिल में प्यार करता हूँ
इसे कैसे बताऊँ मैं? इसे कैसे दिखाऊँ मैं ?
मुझे दिखना नहीं आता, मुझे कहना नहीं आता.
क्या कोई है जो मेरी बात उनके पास पहुँचा दे ?
उन्हें मैं प्यार करता हूँ, उन्हें मैं याद करता हूँ . 

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें