सोमवार, 27 मार्च 2017

जब इश्क किया तो डरना क्या ?

चुप चुप खड़े हो जरूर कोई बात है
होटों पे क्यूँ आती सजन दिल की न बात है ?
सजनी यूँ खुले आम दिल की ना बात कर
एंटी रोमियो मारेंगे चसकेगा रात भर .



मैं तुझसे मिलने आई मंदिर जाने के बहाने 
बाबुल से झूठ बोली ,सखियों से झूठ बोली 
मैं बन गयी बिलकुल भोली 
अरे औ भोली 
तू झूठ ठीक बोली 
एंटी रोमियो धर लेंगे 
मत करना अभी ठिठोली .


चलो दिलदार चलो 
यू पी से बाहर चलो 
हम तैयार चलो 

प्यार करने पे है प्रतिबन्ध यहाँ बहुत कड़ा  
एंटी रोमियो दल रहता लिए लट्ठ खडा 
इश्क होगा कब इजहार चलो
यू पी से बाहर चलो 
चलो दिलदार चलो 


आ चल कि तुझे मैं ले के चलूँ 
एक ऐसे गगन के तले
जहाँ एंटी रोमियो स्कावयड ना हो 
वहाँ खुल के मिलेंगे गले .

जब इश्क किया तो डरना क्या 
जब इश्क किया तो डरना क्या 
मारें एंटी रोमियो या घर वाले 
अब फ़िक्र किसी का करना क्या 
अजी जिक्र किसी से करना क्या 
जब इश्क किया तो डरना क्या .

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें