मंगलवार, 28 फ़रवरी 2017


 ईआन ग्रीलट अमेरिका में भारतीय पर हुए हमले में घायल

 जो न तुम्हारे धर्म का जो न तुम्हारी जात का 
न देश का न वेश का न रंग रूप गात का .
उसी के वास्ते तो तुम हैवानियत से थे लड़े
तुम्हें मेरा प्रणाम तुम महान आदमी बड़े . 

अँधेरे दौर में धधकती तुम बड़ी मशाल हो 
मनुष्य धर्म के लिए बने तुम एक ढाल हो
तुम्हारी राह पर चलें, तुम्हारी राह पर मरे
तुम्हारी राह पर हमारे सारे नोनिहाल हों 

[ अमेरिका के पूर्व नौसैनिक एडम पुरिनतोन द्वारा नस्लीय नफ़रत के कारण प्रवासी भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचीभोटला पर किये  गए हमले का विरोध करते हुए घायल हुए चौबीस वर्षिय युवा अमेरिकी ईआन ग्रीलट  को सादर समर्पित ]  


  

अमेरिकी ने की भारतीय की हत्या, कहा मेरे देश से निकल जाओ

यूस्टन:वाशिंगटन, 24 फरवरी :भाषा: कंसास शहर में एक अमेरिकी व्यक्ति ने भारतीय मूल के एक इंजीनियर की गोली मारकर हत्या कर दी और दो अन्य को घायल कर दिया। गोलियां चलाते समय आरोपी कथित तौर पर चिल्लाते हुए कह रहा था- मेरे देश से निकल जाओ। यह संभवत: घृणा अपराध का मामला हो सकता है।

बुधवार रात को हुई एक भुाड़प के बाद 51 वषर्ीय पूर्व नौसेनाकमर्ी ने नस्ली हमले के तहत गोलियां चला दी थीं जिसमें श्रीनिवास कुचीभोटला :32: की मौत हो गई। श्रीनिवास आॅलेथ स्थित गार्मिन मुख्यालय में काम करता था। हमले में एक अन्य भारतीय एवं उसका सहकमर्ी आलोक मदसाणी भी गंभीर रूप से घायल हो गया।

गोलीबारी में घायल दूसरे व्यक्ति की पहचान अमेरिकी नागरिक ईआन ग्रीलट के तौर पर हुई है जो बीच बचाव करने आया था। घटना आॅलेथ के आॅस्टिन बार एंड ग्रिल में हुई।

आरोपी एडम पुरिनतोन की कथित तौर पर पीडि़तों से नस्लीय मुद्दों पर बहस हो गई थी और वह उनपर गोलियां चलाने से पहले मेरे देश से निकल जाओ, आंतकियों चिल्ला रहा था।

पुलिस के अनुसार पुरिनतोन बहस के बाद बार से चला गया था लेकिन फिर वह बंदूक लेकर वहां वापस आया और तीनों को गोली मार दी। बार के संरक्षक उस समय बाॅस्केटबाॅल मैच देख रहे थे।

आरोपी एडम पुरिनतोन :51: को घटना के पांच घंटे बाद गुरूवार सुबह गिरफ्तार कर लिया गया। उस पर हत्या और हत्या की कोशिश का मामला दर्ज किया गया है।

प्राधिकारियों ने संवाददाता सम्मेलन के दौरान घटना के घृणा अपराध होने या न होने के सवाल पर कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। हालांकि स्थनीय पुलिस एफबीआई के साथ मिलकर मामले की जांच कर रही है।

आॅलेथ के पुलिस प्रमुख स्टीवन मेन्के ने पत्राकारों से कहा, यह हिंसा का एक दुखद कृत्य





0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें