बुधवार, 5 अप्रैल 2017

तुम संस्कृति का नेकर हो 
मैं अपसंस्कृति की चोली .


आपका साथ जो मिला होता
ज़िन्दगी से न कुछ गिला होता .

रोज मिलती जो घूँट भर हमको 
दर्द दुनिया का एक सिला होता .



'जीभ' पर भी बैन है, और 'नैन' पर भी बैन है,
इस तरफ या उस तरफ जो चांस था वो बैन है।
 '

पांडे'  बेचैन है,अब सूझता कुछ भी नहीं;
'मांस' पर भी बैन है, 'रोमांस' पर भी बैन है।।




वो इस गली मिली मुझे, न उस गली मिली 
आवारगी फितरत में थी बदनामियाँ मिली 
मुझको बनाने वाला भी ना बेकसूर है 
मेरे नसीब में ही सारी गलतियां मिली .

व्यवस्था पर भरोसे की जरुरत है मगर बोलो
जहाँ संदेह हो सब के लिए उसको ज़रा खोलो 
हम बागी हैं विरोधी हैं रहे हैं झूठ के आदि 
आप तो सत्यवादी हो कभी खुल के तो सच बोलो . 


हमेशा तो कलम तलवारबाजी कर नहीं सकती 
लिखो तुम प्यार के नगमें कि दुश्मन हार जाएगा .
महकते फूल बरसाओं उडाओं तितलियों को तुम 
परों से, पांखुरी से,रंगों बू से मार खायेगा .





0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें